Current Affairs in Hindi

Forbes: एशिया के सबसे बड़े दानवीर बने भारत के अजीम प्रेमजी, इस साल ₹52750 करोड़ के शेयर किए दान

देश के बिजनेस टायकून अजीम प्रेमजी (Azim Premji) एशिया के सबसे बड़े दान देने वाले है। टेक कंपनी विप्रो में अपने 7.6 अरब डॉलर के शेयर शिक्षा केंद्रित अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के जरिए परोपकार में लगा देने वाले कारोबारी फोर्ब्स की ओर से जारी एशिया के 30 सबसे बड़े दानवीरों की सूची में सबसे आगे हैं।

इस सूची में एशिया के उन अरबपतियों, उद्यमियों, सेलिब्रिटीज को शामिल किया गया है, जो सबसे बड़े मुद्दों को हल करने को प्रतिबद्ध हैं। इसमें प्रेमजी के अलावा भारत के अतुल निसार और किरण मजूमदार शॉ भी शामिल हैं।

फोर्ब्स इंडिया रिच लिस्ट 2019 के मुताबिक दान की वजह से प्रेमजी के पास अब 7.2 अरब डॉलर की संपत्ति रह गई है, जबकि 2018 में उनके पास 21 अरब डॉलर की संपत्ति थी। वह अमीरों की सूची में दूसरे नंबर से फिसलकर 17वें नंबर पर पहुंच गए हैं।

दूसरे नंबर पर इंडोनेशिया के 76 वर्षीय कारोबारी दिग्गज थिओडोर राचमेट हैं। उन्होंने 2018 से अब तक करीब 5 मिलियन डॉलर दान किया है। उनका फाउंडेशन शिक्षा, स्वास्थ्य और अनाथों के लिए काम करता है। 1999 से अब तक उनके फाउंडेशन ने 21 हजार स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी है, जिसमें राचमेट का योगदान 12.5 मिलियन डॉलर है।

सूची में तीसरे नंबर पर मलेशिया के जेफरी चीआ हैं। वह भी अपनी संपत्ति दान कर वंचितों को शिक्षा दिलाने में जुटे हैं। हाल ही में अलीबाबा के चेयरमैन के पद से रिटायर हुए जैक मां दानवीरों की सूची में चौथे नंबर पर हैं। 2014 जैक मा फाउंडेशन के जरिए जैक अब तक 300 मिलियन डॉलर दान या दान का वादा कर चुके हैं।

● द गिविंग प्लेज (The Giving Pledge):

द गिविंग प्लेज का गठन बिल और मेलिंडा गेट्स तथा वारेन बफेट ने अगस्त, 2010 में किया था। “गिविंग प्लेज’ पर साइन करने वाले को अपनी जिंदगी के दौरान या वसीयत के जरिए कम से कम आधी संपत्ति परोपकार के काम के लिए दान करनी होती है। इसकी शुरुआत 40 ग्लोबल बिलिनियर्स के साथ की गई थी।

द इकोनॉमिस्ट हिन्दी
द इकोनॉमिस्ट हिन्दी (The Economist Hindi) इस वेबसाइट के आधिकारिक एडमिन हैं।
https://www.theeconomisthindi.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *