भारत के राष्ट्रीय पुरस्कार
Current Affairs in Hindi

भारत के राष्ट्रीय पुरस्कार

भारत के राष्ट्रीय पुरस्कार – दोस्तों आज हम आपको भारत के कुछ राष्ट्रीय पुरस्कार के बारे में बताने वाले हैं। अगर आपको भी इनके बारे में कोई ज्ञान नहीं है और आपको भी इनके बारे में जानने की उत्सुकता है। तो आप इस आर्टिकल को पढ़कर इनके बारे में काफी सारी जानकारी ले सकते हैं।

नेतृत्व पुरस्कार (The Leadership Award)

1. गाँधी शांति पुरस्कार-

दोस्तों इस पुरस्कार को भारत सरकार ने महात्मा गांधी के सम्मान के अंदर 1995 के अंदर अंतरराष्ट्रीय गांधी शांति पुरस्कार और गांधी जी की 125 वी जन्म दिवस के अंदर इस दिन का आरंभ करा था।

यह पुरस्कार हर साल किसी ऐसे इंसान और किसी ऐसी संस्था को दिया जाता है। जो समाज राजनीति और अर्थव्यवस्था के लिए अहिंसा के साथ में काम करता है। साथ ही गांधी जी के बताए गए रास्ते पर चलता है। इस पुरस्कार के तौर पर 10 लाख रूपये जो किसी भी देश की मुद्रा के अंदर परिवर्तित हो सकती है, और मैडल, साथ ही सम्मान पत्र दिया जाता है।

1. भारत रत्न-

दोस्तों 1954 के अंदर इस को शुरू किया था। यह पुरस्कार देश का सबसे बड़ा पुरस्कार होता है। दोस्तों अगर कोई भी इंसान चाहे, किसी भी जाति या धर्म का क्यों ना हो, या फिर वह किसी भी व्यवसाय के अंदर हो। इस पुरस्कार के लिए हर कोई योग्य होता है। ये पुरस्कार केवल उन्हीं लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने विज्ञान कला या साहित्य के अंदर विशिष्ट कार्य किया होता है। भारत रत्न के लिए योग्य व्यक्तियों का नाम खुद प्रधानमंत्री द्वारा और राष्ट्रपति सुझाते हैं।

दोस्तों सबसे जरूरी बात की यह पुरस्कार केवल 1 साल के अंदर ज्यादा से ज्यादा 3 व्यक्तियों को ही दिया जाता है। पुरस्कार के तौर पर यहां पर आपको एक मेडल और सम्मान पत्र ,जिस पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होते हैं।

इन सब चीजों से आपको पुरस्कार से स्थापित होने के साथ ही इसके लिए एक गोलाकार गोल्ड मेडल तैयार किया होता है। जिसमें देश का एंब्लेम और मोट्टो छपा हुआ होता है। मेडल के अंदर देवनागरी में भारत रत्न लिखा रहता है। कालांतर में ही इसके लिए एक पीपल के पत्ते के आकार का स्मृति चिन्ह भी तैयार किया गया। जिस पर देवनागरी में भारत रत्न लिखा हुआ होता है।

 

Read More – नोबेल पुरस्कार क्या है? नोबेल पुरस्कार क्यों दिया जाता है?

2. पदम् भूषण-

दोस्तों पदम् भूषण पुरस्कार की शुरुआत 1954 के अंदर हो गई थी। पदम् भूषण ऐसे लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने किसी भी क्षेत्र के अंदर कुछ विशेष कार्य किया हो या फिर उन्होंने काफी प्रसिद्धि हासिल की हो। जैसे कि विज्ञान, साहित्य, कला, खेल, शिक्षा, सामाजिक कार्य, इंजीनियरिंग, दवाई, सिविल, सर्विस और इंडस्ट्री आदि यह सारी चीजें होती हैं। दोस्तों अगर इनमे से किसी भी क्षेत्र के अंदर किसी भी इंसान ने अगर कोई भी विशेष उपलब्धि प्राप्त करी होती है। तो वह इस पुरस्कार के लिए योग्य माना जाता है।

3. पदम् विभूषण-

दोस्तों यह पुरस्कार केवल उन विशेष लोगों को ही दिया जाता है। जिन्होंने किसी क्षेत्र में विशिष्ट कार्य पर प्रसिद्धि पाई हो, अगर कोई भी व्यक्ति सरकारी नौकरी के अंदर है और अपने कार्य से प्रसिद्धि को प्राप्त करता है। तो उसको भी इस पुरस्कार से सम्मानित करा जाता है। इस पुरस्कार को 3 कैटेगरी के अंदर रखा गया है- पहला वर्ग, दूसरा वर्ग और तीसरा वर्ग।

4. पदम् श्री-

दोस्तों बाकी बताए गए पुरस्कारों से यह पुरस्कार थोड़ा सा निचले स्तर का होता है। इसमें किसी भी क्षेत्र के अंदर उपलब्धि के लिए आपको पुरस्कार दिया जाता है। अगर दोस्तों कोई भी व्यक्ति जो कुछ भी काम करता हो या वह किसी भी जेंडर का हो। वह पदम् पुरस्कार के लिए अपने नाम को रजिस्टर करवा सकता है।

दोस्तों अगर किसी भी व्यक्ति को कोई भी पदम् पुरस्कार मिलता है। तो अगले स्तर का पदम् पुरस्कार उसे कम से कम 5 सालों के बाद में दिया जाता है। लेकिन अगर कोई अधि योग व्यक्ति होता है, तो पुरस्कार समिति द्वारा उसको रियाद दे दी जाती है। दोस्त इसके अंदर भी योग्य व्यक्तियों के नाम को भारत सरकार के द्वारा हर साल राज्य सरकार और मंत्रियों से मांग करी जाती है। फिर उन्हें ये पुरस्कार दिया जाता है।

नीतिश कुमार मिश्र
नीतिश कुमार मिश्र (Neetish Kumar Mishra) इस वेबसाइट के फाउंडर हैं। वे इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से स्नातक एवं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से परास्नातक (अर्थशास्त्र) कर चुके हैं। अब वे इस वेबसाइट के माध्यम छात्रों को बेहतर कंटेंट देकर उनको आगे बढ़ाने की ओर प्रयासरत हैं।